नवगछिया : खरीक के दादपुर व गोपालपुर टोला के पास शुरू हुआ कटाव.. ग्रामीणों में दहशत का माहौल

0
237
नवगछिया : खरीक के दादपुर व गोपालपुर टोला के पास शुरू हुआ कटाव
नवगछिया : खरीक के दादपुर व गोपालपुर टोला के पास शुरू हुआ कटाव

नवगछिया : खरीक के दादपुर व गोपालपुर टोला के पास शुरू हुआ कटाव

नवगछिया : प्रखंड में कोसी नदी बरसात से पहले ही अपना रूप दिखाना शुरू कर दी है। ढोड़िया-दादपुर पंचायत के दादपुर-गोपालपुर टोला के समीप शनिवार से ही कोसी तट पर कटाव शुरू हो गया है। इससे कई किसानों की उपजाऊ जमीन नदी में समा गई। कटाव को देख ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। ग्रामीण अभी से ही बड़ी तबाही की तबाही की आशंका से सहमे हुए हैं। अब तक जल संसाधन विभाग या स्थानीय प्रशासन कटाव रोकने के लिए कोई पहल नहीं शुरू की है।

ग्रामीणों ने यहां कटावरोधी काम शुरू कराने के लिए जल संसाधन विभाग के अफसरों से गुहार लगाई है। ग्रामीणों का कहना है कि बाढ़ से पहले जब यह हाल है तो बाढ़ आने के बाद क्या स्थिति होगी। लोगों का कहना है कि अगर समय पर विभाग यहां कटावरोधी काम करया हाेता तो यह स्थिति नहीं आती। इससे विभाग के प्रति लोगों में भारी आक्रोश है। ग्रामीणों ने डीएम से भी शीघ्र इस दिशा में आवश्यक पहल करने की मांग की है।

वहीं पंचायत के उप मुखिया ईं. चंदन कुमार यादव ने बताया कि यहां हर वर्ष कटाव होता है। कटाव पर स्थायी रूप से रोक लगाने के लिए हमने कई बार स्थानीय प्रशासन से लेकर सीनियर अफसरों तक को आवेदन दिया। लेकिन अब तक कोई पहल नहीं की गई है। उप मुखिया समेत ग्रामीणों ने कहा कि अगर शीघ्र ही इस दिशा में विभाग द्वारा आवश्यक पहल नहीं की गई तो हम आंदोलन को बाध्य होंगे।

ग्रामीण बोले-कटाव रोकने के लिए स्थायी समाधान निकाले प्रशासन

ग्रामीणों का कहना है कि कटाव पर रोक लगाने के लिए प्रशासन और जल संसाधन विभाग को स्थायी समाधान निकाला चाहिए। इसके लिए कटावस्थल पर बांध बनाने की जरूरत है। लोगों ने कहा कि कटाव के कारण हर साल हमें भारी क्षति होती है। पिछले साल भी दोनों गांव के करीब 50 से अधिक किसानों की सैकड़ों एकड़ उपजाऊ जमीन कोसी नदी में समा गई थी। इस बार तो बरसात आने से पहले ही कटाव शुरू हो गया है। बाढ़ आने की स्थिति में नदी जब उग्र रूप धारण करेगी तो गांव के अस्तित्व पर खतरा होगा। लोगाें ने जल्द कटावरोधी काम शुरू कराने की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here